Blog


पीएम ने जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए देश के किसानों के लिए ‘जैविक खेती पोर्टल’ लांच किया

देश में जैविक खेती/ऑर्गेनिक फार्मिंग को बढ़ावा देने के उद्देश्य से प्रधान मंत्री जी ने पुरे देश में एक पोर्टल लांच किया है. इस पोर्टल का नाम जैविक खेती पोर्टल होगा. इस पोर्टल के द्वारा रसायन मुक्त भारत की सोच को बढ़ावा दिया जायेगा और खेती में अच्छी फसलों के लिए रासायनिक खादों के प्रयोग को प्रतिबंधित किया जायेगा. इस पोर्टल पर केंद्र सरकार की योजनाओं, राष्ट्रीय कृषि विकास योजना (RKVY), परंपरागत कृषि विकास योजना माइक्रो इरीगेशन और एमआईडीएच आदि की जानकारी भी उपलब्ध कराई जाएगी. इसके द्वारा किसान और व्यापारी खेतों में मृदा की स्थिति अच्छी रखने के लिए ऑनलाइन तरीके सिख पायेंगे, जिसमे फसलों, पशु अपशिष्टो और फसल अपशिष्टो का प्रयोग किया जायेगा. इस प्रकार इस तरह से मिट्टी को पोषक तत्व प्रदान करने के लिए जैविक पदार्थो और सुक्ष्म जीवो का प्रयोग किया जाता है. यह पोर्टल खेती के नये और पारंपरिक तरीको का एक मिश्रण होगा. इसके अलावा यहां किसान अपनी फसल सही दाम पर बेच भी सकतें है और यहाँ से व्यापारी भी कृषि उपजों को सीधे किसानों से खरीद सकतें है. इस तरह से यह पोर्टल कई सुविधाये प्रदान करेगा. इसमे रजिस्ट्रेशन करने के लिए यूजर को सर्वप्रथम इसकी ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना होगा. जब आप यहा पहुँच जातें है तो आपको यहाँ ऊपर की ओर दायें साइड में मौजूद रजिस्ट्रेशन बटन पर क्लिक करना होता है. यहाँ पर आवेदक एक किसान की तरह या व्यापारी की तरह भी रजिस्ट्रेशन कर सकता है. अगर कोई व्यापारी अपने सामान को बेचने के लिए यहाँ अपना रजिस्ट्रेशन करवाना चाहता है तो उसे Register as Other User ऑपशन को चुनना होगा और किसान को अपने लिए Register as Farmer ऑपशन को चुनना होगा. आवेदक किसान या अन्य विकल्प को चुनता है तो उसके लिए संबंधित फॉर्म यहाँ उपलब्ध हो जाता है. अब आवेदक को इस फॉर्म में उपलब्ध सारी जानकारी को अच्छे से पढ़कर इसे भर देना चाहिये. जब यह आवेदक यह फॉर्म भर लेता है तो वह सबमिट बटन पर क्लिक करके अपना फॉर्म सबमिट कर सकता है. जैविक खेती में रासायनिक उत्पादों जैसे उर्वरक, कीटनाशक, खरपतवार नाशक आदि के प्रयोग को प्रतिबंधित किया जाता है. जैविक खेती में मुख्य रूप से फसलों को अदल बदल कर बोना, फसलों के अवशेष, पशु अवशेषों सुक्ष्म जीवों आदि के द्वारा फसलों को उर्वरकता प्रदान की जाती है. खेतों में रासायनिक उर्वरकों, कीटनाशकों आदि के उपयोग को समाप्त करने की जरुरत है. इसी के साथ किसानों को रासायनिक रूप से तैयार बीजो और जीएमओ प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल भी बंद करना होगा. इसके लिए किसानों को कृषि के परंपरागत तरीको जैसे एक खेत में अलग – अलग फसल लगाना या फसलों को अदल बदल के लगाना, जैविक खादों का प्रयोग आदि को अपनाना चाहियें. इसके अलावा किसान को अपने खेत के लिए खाद स्वयं तैयार करना चाहियें और इसके लिए वह पशु अपशिष्टो और कृषि अपशिष्टो का प्रयोग भी कर सकता है. किसानों को खेतो में फसलों में जैविक उर्वरक जैविक कीटनाशक आदि का प्रयोग ही करना चाहियें. पशु पालन, मुर्गी पालन, मछली पालन और पक्षियों के लिए भी एंटीबायोटिक इंजेक्शन या अन्य किसी रासायनिक पदार्थ का प्रयोग नहीं करना चाहियें. किसानों को बाजार में उपलब्ध रासायनिक तरीको से तैयार किये गये बीजों की अपेक्षा फसलों के लिए खुद के द्वारा तैयार किये गये बीजों का इस्तेमाल करना चाहियें. किसान को खेत में मेढ़ में विशेष प्रकार के पेड़ लगाना चाहियें. जिसके द्वारा पवन बाधा, कम्पोस्ट सोर्स और बफर जोन को कवर किया जा सकता है. इसके अलावा किसानों को पीजीएस इंडिया सर्टिफिकेट मुफ्त में बनाकर दिया जायेगा. इस सब तरीको को फॉलो करने के बाद किसान की खेती जैविक खेती में परिवर्तित हो पायेगी. जो कि हमारे जीवन और अन्य जीवों के लिए लाभप्रद होगा.

छोटे निवेश के साथ 20 सबसे लाभदायक औषधीय जड़ी बूटी (मेडिसिनल प्लान्ट) उगाये

भारत में औषधीय जड़ी बूटियों का ऑर्गनिक खेती अभ्यास तेजी से बढ़ रहा है। औषधीय जड़ी बूटियों को मूल्यवान और लाभदायक नकदी फसलों के रूप में माना जाता है। जड़ी बूटियों की एक अच्छी निर्यात क्षमता भी है। औषधीय जड़ी बूटी बढ़ाना, प्रसंस्करण और बिक्री करना किसानों के लिए एक बेहतर अवसर है। भारत में बढ़ रहे औषधीय जड़ी बूटियों को वाणिज्यिक नकद फसल की खेती के रूप में माना जाता है। भारत सरकार ने जड़ी बूटियों के उत्पादकों को विपणन सुविधा प्रदान करने के लिए भारत के केंद्रीय हर्बल एग्रो मार्केटिंग फेडरेशन का गठन किया है। पर्याप्त भूमि और सिंचाई स्रोत रखने वाला कोई भी व्यक्ति भारत में जड़ी बूटी का व्यवसाय शुरू कर सकता है। वाणिज्यिक दृष्टि से विशेष जड़ी बूटियों की पूर्व व्यवहार्यता रिपोर्ट होना महत्वपूर्ण है जिसे आप उगाने की योजना बना रहे हैं। • व्यावसायिक रूप से उगाने के लिए औषधीय जड़ी बूटियों की सूची १. एलोवेरा एलोवेरा एक उच्च मूल्य औषधीय जड़ी बूटी है। कई उद्योग में इसका उपयोग हैं। जैसे सौंदर्य प्रसाधन, दवा, और पेय पदार्थों में। आप छोटे पूंजी निवेश के साथ खेती शुरू कर सकते हैं। २. आमला अमला भारत में एक महत्वपूर्ण फसल है। इसमें उच्च औषधीय मूल्य है। अमला औषधि और सौंदर्य प्रसाधन उद्योग में प्रयोग किया जाता है। यह एक उष्णकटिबंधीय फसल है। आप पूरी तरह से रेतीले मिट्टी को छोड़कर हल्का और मध्यम भारी मिट्टी में आमला विकसित कर सकते हैं। ३. अश्वगंधा अश्वगंध सूखे और उप उष्णकटिबंधीय क्षेत्र में अच्छी तरह से बढ़ता है। मध्य प्रदेश, हरियाणा, गुजरात, पंजाब, राजस्थान भारत के प्रमुख उत्पादक राज्य हैं। ऑर्गनिक रूप से उगाए जाने वाले अश्वगंधा में अच्छी व्यापार क्षमता है। ४. तुलसी भारत में तुलसी के नाम से जाना जाता है। पौधे को "जड़ी बूटियों की रानी" के रूप में माना जाता है। पौधे में कई औषधीय गुण हैं। इसके अलावा, दवा, सौंदर्य प्रसाधन, और संसाधित खाद्य उद्योग इसके प्रमुख उपभोक्ता हैं। आप उष्णकटिबंधीय और उप उष्णकटिबंधीय सहित किसी भी प्रकार के जलवायु में तुलसी उगा सकते हैं। ५. ब्राह्मी ब्राह्मी के पास उच्च औषधीय मूल्य है। यह भारत में पारंपरिक और प्रारंभिक आयु जड़ी बूटियों में से एक है। इस पौधे में उपजी के विपरीत माँसपेशियावली अंडाकार आकार की 1-2 सेमी लंबी पत्तियां होती हैं। छोटे, ट्यूबलर, पांच-पंख वाले, सफेद फूल पत्ते के टर्मिनल में विकसित होते हैं और साल के कई महीनों में खिल सकते हैं। ६. कैलेंडुला कैलेंडुला पौधे को बढ़ाना आसान है। इसमें भारी औषधीय मूल्य हैं। आप आंशिक या पूर्ण सूर्य के साथ खराब भूमि पर कैलेंडुला विकसित कर सकते हैं। हालांकि, इसे नियमित पानी की आवश्यकता होती है। तो आपको अपने कैलेंडुला फार्म की सिंचाई प्रणाली के बारे में सावधान रहना चाहिए। ७. दारुहरिद्र दारुहरिद्र एक महत्वपूर्ण आयुर्वेदिक दवा है। यह रस उत्पादन और सौंदर्य प्रसाधन उद्योग में भी प्रयोग किया जाता है। पौधे हल्के, मध्यम और भारी मिट्टी पसंद करते हैं। इसके अलावा, आप इस पौधे को भारी मिट्टी में और पौष्टिक रूप से खराब मिट्टी में भी बढ़ा सकते हैं। ८. गुगल राजस्थान भारत में गुगुल खेती में शीर्ष स्थान पर है। यह लंबे समय से समृद्ध औषधीय मूल्य है। पौधे नुकीले, कुटिल, स्प्रिंग भूरे रंग के ब्रैक्टियों के साथ एक वुडी झाड़ी है। गुगल को सूखा एरिया लवणता प्रतिरोधी माना जाता है। ९. जटामानसी असल में, दवा, सुगंध, और सौंदर्य प्रसाधन उद्योग जटामानसी के प्रमुख उपभोक्ता हैं। आम तौर पर, जटामानसी की स्थानीय उपयोग के लिए और इसकी जड़ों और राइजोम्स के व्यापार के उद्देश्य के लिए कटाई की जाती है। १०. जेट्रोफा जेट्रोफा सबसे अच्छा तिलहन पौधे में से एक है। इसमें औषधीय गुण हैं और साथ ही साथ औद्योगिक उद्देश्य भी हैं। पौधे मिट्टी के कटाव को रोकता है। इसके अतिरिक्त, आप बंजर भूमि, खराब मिट्टी, कम वर्षा और सूखा क्षेत्रों में फसल उगा सकते हैं। ११. केसर यह दुनिया में सबसे महंगा मसाला है। केसर का मुख्य रूप से मसाले में और विभिन्न खाद्य उत्पादों में स्वाद के साथ रंग प्राप्त करने के लिए प्रयोग किया जाता है। इसमें उच्च औषधीय मूल्य है। १२. लैवेंडर आम तौर पर, लैवेंडर खेती भारत में लाभदायक है। असल में, आप केवल हिमालयी क्षेत्र में लैवेंडर विकसित कर सकते हैं, जहां बर्फ होती है। क्योंकि इसे पहली बार लगाए जाने पर केवल पानी की आवश्यकता होती है। १३. लेमन घास असल में, लेमन घास एक बारहमासी पौधा है। लेमन घास भारत में वाणिज्यिक रूप से खेती की फसलों में से एक है जो एक विस्तृत श्रृंखला में है। औषधीय मूल्य के अलावा, सुगंध, सौंदर्य प्रसाधन, साबुन, डिटर्जेंट, और पेय पदार्थों में प्रमुख उपयोग। १४. अजमोद अजमोद एक अच्छी तरह से सूखा, नमी बनाए रखनेवाली मिट्टी पसंद करता है। इसके अतिरिक्त, अजमोद को बढ़ने के लिए अच्छी मात्रा में प्रकाश की आवश्यकता होती है। गर्मियों में आपको अक्सर पानी की व्यवस्था करनी होगी। १५. पैचौली पैचौली महत्वपूर्ण सुगंधित पौधों में से एक है। इसके अतिरिक्त, आप फसल को इसके तेल के लिए खेती कर सकते हैं। सूरज की रोशनी के साथ आर्द्र मौसम इस फसल के लिए उपयुक्त है। पौधे आंशिक छाया में एक इंटरक्रॉप के रूप में अच्छी तरह से बढ़ता है। हालांकि, आपको पूरी छाया से बचना चाहिए। १६. सफेड मुस्ली इस पौधे में कुछ उत्कृष्ट आयुर्वेदिक गुण हैं। आप देश में कहीं भी उगा सकते हैं। अच्छी फसल प्रबंधन अभ्यास के साथ वाणिज्यिक खेती आपको शानदार लाभ प्रदान करेगी। १७. सर्पगंधा सर्पगंधा में विभिन्न औषधीय मूल्य हैं। असल में, सर्पगंधा एक लाभदायक जड़ी बूटी है। पौधे बहुत अधिक आर्द्रता और अच्छी जल निकासी के साथ नाइट्रोजेनस और कार्बनिक पदार्थ में समृद्ध मिट्टी पसंद करता है। क्षारीय मिट्टी वाणिज्यिक खेती के लिए उपयुक्त नहीं हैं। १८. स्टीविया असल में, स्टीविया एक चीनी विकल्प के रूप में लोकप्रिय है। इसके अतिरिक्त, भारत में स्टीविया की खेती लाभदायक है। इसमें औषधीय मूल्य हैं और सौंदर्य प्रसाधन उद्योग में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है। १९. वेनिला केसर के बाद बाजार में वेनिला सबसे महंगा मसाला है। इसके अतिरिक्त, आयुर्वेद, दवाएं और संसाधित खाद्य उद्योग वेनिला के प्रमुख उपभोक्ता हैं। हालांकि, वेनिला की खेती में कर्नाटक भारत में शीर्ष स्थान पर है। २०. यष्टिमधु अंग्रेजी नाम लिकोरिस है। यष्टिमधु भारत में और विदेशों में भी सबसे लोकप्रिय औषधीय जड़ी बूटी में से एक है। पौधे की जड़ में ग्लिसरीरिज़िन नामक पदार्थ होता है जो चीनी से 50 गुना मीठा होता है।

ताईवानी तकनीक से ऐसे करें सब्जी की खेती 10 गुना अधिक होगा मुनाफा

नई खोज – उन्नत खेती चंदौली - सब्जी की आधुनिक खेती देखना है तो आपको बेदहां गांव आना होगा। चंदौली जिले में स्थित इस गांव के सुरेंद्र सिंह ने इस विधा में महारथ हासिल कर ली है। ताइवानी पद्धति से सब्जी उगाकर वे सामान्य की अपेक्षा दस गुना तक अधिक मुनाफा कमा रहे हैं। पैदावार इतनी है कि हर रोज 20 मजदूर लगाने पड़ते हैं। इससे स्थानीय लोगों को दैनिक रोजगार भी मुहैया हो गया है। बेदहां और मिर्जापुर के मड़िहान में इस पद्धति से की जा रही सब्जी की खेती अब पूरे क्षेत्र में चर्चा का विषय है। कैसे करते हैं खेती : खेत की अच्छी जोताई के बाद गीली भुरभुरी मिट्टी की मेड़ बनाकर उसमें चार-चार इंच की दूरी पर बीज डालते हैं। मेड़ को प्लास्टिक से ढक दिया जाता है। जैसे ही बीज अंकुरित होते हैं, प्लास्टिक में छेद कर पौधे बाहर निकल आते हैं। इस विधि में न तो ज्यादा पानी की जरूरत होती है और न ही ज्यादा लागत आती है। फसल में कीड़े भी नहीं लगते हैं। हां, ऊंचाई वाले खेत पर ही फसल उगाई जा सकती है। बीज और प्लास्टिक ताइवान के : हरी मिर्च, शिमला मिर्च, खरबूज, तरबूज, टमाटर, खीरा आदि के बीज वे ताइवान से मंगाते हैं। भारतीय बीजों की तुलना में ताइवान के बीज छह से सात गुना ज्यादा पैदावार देते हैं। एक बार तोड़ाई के बाद भी पौधे खड़े रहते हैं। छह माह की फसल में 12 बार तोड़ाई करते हैं। एक हेक्टेयर में 50 हजार लागत : हरी मिर्च को ही लें तो पारंपरिक विधि के मुकाबले इस विधि में इसकी लागत काफी कम आती है। एक हेक्टयर में 50 हजार लागत आती है पर मुनाफा चार लाख रुपये तक मिलता है। सुरेंद्र बताते हैं कि कभी कभी तो इतनी पैदावार हो जाती है कि कई मंडियों में फसल पहुंचानी पड़ती है। हर जिंस में मुनाफा करीब आठ से दस गुना तक होता है। सिंचाई भी न के बराबर : इस पद्धति में सिंचाई और उर्वरक की अधिक जरूरत नहीं पड़ती है। पानी में उर्वरक मिलाकर मेड़ों में डाल दिया जाए तो वह हर पौधे की जड़ में पहुंच जाता है। टपक विधि से भी सिंचाई करते हैं। पौधे के ऊपर पानी टपकाकर भी उनकी सिंचाई हो जाती है। प्लास्टिक से ढक दिए जाने के कारण नीचे से उत्पन्न होने वाली वाष्प सहायक साबित होती है। प्लास्टिक के कई फायदे : मेड़ों पर बिछाई गई प्लास्टिक से न तो घास पैदा होती है और न ही कीट पतंग फसल को नष्ट कर पाते हैं। घास प्लास्टिक के नीचे ही रहती है और पेड़ों तक नहीं पहुंच पाती। पौधों को बीमारी व कीटों से बचाने के लिए आर्गेनिक दवा का छिड़काव किया जाता है। फसल से मिला बड़ा फायदा : सुरेंद्र सिंह कहते हैं कि धान और गेहूं की फसल पैदा करते-करते थक गए थे। छह साल पूर्व किसान कॉल सेंटर, सब्जी अनुसंधान केंद्र व पूसा इंडस्ट्रीज में जाकर सब्जी की खेती की तकनीक देखी। वहां के सदस्य बने और अपने यहां शुरुआत की। उन्हें भरपूर लाभ मिलता है पर मंडियों में दस फीसद आढ़तिया शुल्क अनावश्यक लगता है। यह बंद होना चाहिए।

सीसीईए (CCEA) 2018-19 चीनी मौसम के लिए चीनी मिलों द्वारा देय एफआरपी के निर्धारण को मंजूरी दे दी है।

सीसीईए (CCEA) 2018-19 चीनी मौसम के लिए चीनी मिलों द्वारा देय एफआरपी के निर्धारण को मंजूरी दे दी है। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की कैबिनेट कमेटी (CCEA) ने गन्ना के किसानों के हित को ध्यान में रखते हुए चीनी मौसम 2018-19 के लिए गन्ना के उचित और लाभकारी मूल्य (एफआरपी) को मंजूरी दे दी है। इसे कृषि लागत और मूल्य आयोग (सीएसीपी – CACP) के आयोग की सिफारिश के आधार पर अनुमोदित किया गया था। सीसीईए ने गन्ना के एफआरपी में 20 रुपये प्रति क्विंटल 10% की मूल वसूली दर के लिए 255 रुपये प्रति क्विंटल किया है। यह उत्पादन लागत से 77.42% अधिक है और यह सुनिश्चित करता है कि किसानों को उनकी उत्पादन लागत पर 50% से अधिक की वापसी हो। उचित और लाभकारी मूल्य (एफआरपी - FRP) एफआरपी न्यूनतम कीमत है कि चीनी मिलों को गन्ना किसानों को भुगतान करना पड़ता है। यह कृषि लागत और मूल्य आयोग (सीएसीपी -CACP) की सिफारिशों और राज्य सरकारों और अन्य हितधारकों के परामर्श के आधार पर निर्धारित किया जाता है। अंतिम एफआरपी विभिन्न कारकों जैसे उत्पादन, घरेलू और अंतरराष्ट्रीय कीमतों, समग्र मांग-आपूर्ति की स्थिति, अंतर-फसल मूल्य समानता, प्राथमिक उप-उत्पादों की व्यापार कीमतों की शर्तों और सामान्य मूल्य स्तर पर इसके प्रभाव और संसाधन उपयोग दक्षता को ध्यान में रखकर पहुंचा है। #digitalagriculture #RevolutionofAgriculture #ekrishikendra #kheti #agriculture #krushi #farming #indiaagriculture #eagriculture #eagrotrading #eagritraining

टर्मिनल मार्केट

टर्मिनल मार्केट एक केंद्रीय साइट है, जो अक्सर मेट्रोपॉलिटन जगह पर है, जो कि कृषि वस्तुओं के लिए एक सभा और व्यापारिक स्थान के रूप में कार्य करता है। यहां उपज का विवरण करने के लिए अलग-अलग विकल्प हैं। इसे या तो अंतिम उपभोक्ता, या प्रोसेसर, या निर्यात के लिए पैक किया जा सकता है, या भविष्य की तारीख में विवरण के लिए भी संग्रहीत किया जा सकता है। यह इस प्रकार एक छत के नीचे किसानों को अलग-अलग विकल्प प्रदान करता है। आम तौर पर, टर्मिनल मार्केट एक हब और स्पोक मॉडल पर काम करता है जहां हब्स के बाजार उत्पादन केंद्रों के नजदीक स्थित संग्रह केंद्रों से जुड़े होते हैं। भारत सरकार खुदरा श्रृंखला के साथ घरेलू उपज को एकीकृत करने के साधन के रूप में टर्मिनल मार्केट को बढ़ावा देने के प्रयास में है। 131 मिलियन अमेरिकी डॉलर की लागत से पांच राज्यों में आठ शहरों में ऐसे बाजार स्थापित करने की योजना है। जिन शहरों पर विचार किया जा रहा है वे मुंबई, नासिक, नागपुर, चंडीगढ़, राय, पटना, भोपाल और कोलकाता हैं।

भारत अगली कृषि क्रांति के लिए तैयार है?

भारत में आगामी कृषि क्रांति लंबे समय से स्थिर रही है। प्रौद्योगिकी के विकास में, भारत के जीडीपी में कृषि क्षेत्र का हिस्सा 67% हो गया है। यह भारत में अगली कृषि क्रांति के लिए सबसे उत्तम समय है। भारत में अगली कृषि क्रांति की शरुआत। आधुनिक युग में कई तकनीकें और औजार हमारे जीवन का एक अभिन्न अंग बन रहे हैं।हाइड्रोपोनिक्स, ग्रीन हाउस और एयरोपोनिक्स और हाइब्रिड फसल किस्मों में सुधार इसका परिणाम है। वैज्ञानिक रूप से खेती, बागवानी, छंटनी और बाद में कटाई के क्षेत्र में नए क्षितिज - मूल्यवर्धन, मार्केटिग प्रबंधन, कृषि सूचना प्रौद्योगिकी, किसान चर्चा मंच, कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग, डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म के माध्यम से भारतीय कृषि विकसित हो रही है। भारतीय कृषि का यह नया युग डिजिटल क्रांति के साथ उभर रहा है। डिजिटल क्रांति के साथ, भारतीय कृषि को अपनी असली जगह पर लाने का एक बड़ा अवसर है। डिजिटल कृषि व्यवहार, खरीद और बिक्री में पारदर्शिता, कृषि कोमोडिटी के बाजार पर किसानों का नियंत्रण, अध्यतन सेंसर और डिजिटल इमेजिंग क्षमताओं के साथ ड्रोन्स का उपयोग, बड़ी मात्रा में डेटा संचय और विश्लेषण इत्यादि डिजिटल क्रांति की शुरुआत है। नवीनतम प्रौद्योगिकियों का कार्यान्वयन, कृषि डेटा को उपयोगी, सटीक और समय पर ज्ञान में बदलने के लिए डिजिटल प्लेटफॉर्म की बढ़ती हुई क्षमता कृषि में टिकाऊ उत्पादकता वृद्धि का एक प्रमुख चालक बन रही है। किसानों ने हमेशा परिवर्तन स्वीकार कर लिया है और आज वे अधिक अध्यतन तकनीक का उपयोग कर रहे हैं। आधुनिक कृषि मशीनरी पर बढ़ती निर्भरता, जीपीएस उपग्रहों का आगमन, और उपग्रह आधारित सेंसर द्वारा मार्गदर्शन उनकी फसलों को विकसित करने में निश्चित रूप से सहायक होते हैं। यह डिजिटल क्रांति तीसरी हरी क्रांति हो सकती है जो भारतीय पारंपरिक कृषि के पुनरुत्थान में महत्वपूर्ण योगदान देगी।

जीरो बजट प्राकृतिक खेती या है?

जीरो बजट प्राकृतिक खेती देसी गाय के गोबर एवं गौमूत्र पर आधारीत है। एक देसी गाय के गोबर एवं गौमूत्र से एक किसान तीस एकड़ जमीन पर जीरो बजट खेती कर सकता है। देसी जात के गौवंश के गोबर एवं गौमूत्र से जीवामृत , घनजीवामृत तथा जामन बीजामृत बनाया जाता है। इनका खेत में उपयोग करने से मिट्टी में पोषकतत्व की वृद्धि के साथ-साथ जैविक गतिविधियों का विस्तार होता है। जीवामृत का महीने में एक अथवा दो बार छिड़काव किया जा सकता है। जबकि बीजामृत का इस्तेमाल बीज को उपचारित करने में किया जाता है। इस विधि से खेती करनेवाले किसान को बाजार से किसी प्रकार की खाद और कीटनाशक रसायन ख़रीदने की जरुरत नहीं पड़ती है। फसलों की सिंचाई के लिए पानी एवं बिजली भी मौजूदा खेती-बाड़ी की तुलना में दस प्रतिशत ही खर्च होती है।