Special Story Post


हरिभाई ने कोठासूज के साथ दीवाडांड़ी बनाई: रोज़, सुअर द्वारा संरक्षण होता है।

जूनागढ़ जिले के भेसान तालुका के खंभालिया गाँव के एक प्रयोगात्मक किसान हरिभाई थुमर ने अपनी कोठासुज से एक अनोखी दीवाडांड़ी बनाई है। इस दीवाडांड़ी की मदद से रोज़, सुअर समेत जानवरों ने उनके खेतों में आना बंद कर दिया है। 

इस दीवाडांड़ी के निर्माण की बात करें तो एक डिब्बे में चार्जिंग  बैटरी और लाइट को फिट किया गया है। हवा से डिब्बा आसानी से घूम सके इसके लिए पंखे की बेरिंग का उपयोग किया गया हे और डिब्बे के पंख भी रखे गए हैं। रात को डिब्बे में राखी लाइट चालू की जाती है। डिब्बे की रचना ऐसी है कि यह सामान्य हवा के साथ भी घूमता है। इसलिए, बैटरी का प्रकाश फॉक्स भी पूरे क्षेत्र में चलता है। इस तरह से खेतमे रातभर फॉक्स होने की वजह से  रोज़, सूअर जैसे जानवरो आते नहीं है।

हरिभाई का कहना है कि इस तरह के देसी दीवाडांड़ी बनाने की लागत केवल 500 रुपये है। रोज़, सूअर जैसे जानवरों के कारण खेती को भारी नुकसान हो रहा है। इस वजह से किसानों को रातभर जागना पड़ता है। ऐसे जानवरों से रक्षा करने के लिए, किसान हजारों-लाखो रुपये की कीमत पर तार फेन्सिंग लगाते हैं। इस स्थिति में, हरिभाई की कोठासुज की कमाल से बनाई दीवाड़ाडी किसानों के लिए उपयोगी हो सकती हैं। इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए हरिभाई थुमर के नंबर  9428240817  पर संपर्क कर सकते हैं।