Blog Post


स्टीविया की खेती : एक बार लगाकर 5 साल तक काटिए मुनाफे की फसल।

स्टीविया की खेती : एक बार लगाकर 5 साल तक काटिए मुनाफे की फसल।

स्टीविया - चीनी का एक विकल्प, मधुमेह रोगियों के लिए एक आशीर्वाद।

दुनिया भर में मधुमेह रोगियों का बढ़ना भले ही एक अच्छी खबर न हो लेकिन किसानों के लिए यह आय बढ़ाने का एक बेहतर मौका हो सकता है। मधुमेह के उपचार के लिए मधुपत्र, मधुपर्णी, हनी प्लांट या मीठी तुलसी (स्टीविया) की पत्तियों की मांग बढ़ रही है। इसका मतलब यह है कि किसान मधुपत्र की खेती करके अपनी आय बढ़ा सकते हैं। 2022 तक स्टीविया के बाजार में लगभग 1000 करोड़ रुपए की और बढ़ोतरी होने का अनुमान है। इसे देखते हुए नेशनल मेडिसिनल प्लांट्स बोर्ड (एनएमपीबी) ने किसानों को स्टीविया की खेती पर 20 फीसदी सब्सिडी देने की घोषणा की है।

भारतीय कृषि-विश्वविद्यालय के शोध में ये बात सामने आयी है कि मधुपत्र की पत्तियों में प्रोटीन व फाइबर अधिक मात्रा में होता है। कैल्शियम व फास्फोरस से भरपूर होने के साथ इन पत्तियों में कई तरह के खनिज भी होते हैं। इसलिए इनका उपयोग मधुमेह रोगियों के लिए किया जाता है। इसके अलावा मछलियों के भोजन तथा सौंदर्य प्रसाधन व दवा कंपनियों में बड़े पैमाने पर इन पत्तियों की मांग होती है।

मधुमेह पीड़ितों के लिए बेकरी उत्पाद, सॉफ्ट ड्रिंक और मिठाइयों में भी मधुपत्र की सूखी हुई पत्तियों का उपयोग होता है। मधुपत्र की पत्तियों की कीमत थोक में करीब 250 रुपए किलो तथा खुदरा में यह 400-500 रुपए प्रति किलो तक होती है। मधुपत्र के पौधों से हर तुडाई में प्रति एकड़ 2500 से 2700 किलो सूखी पत्तियां मिल जाती हैं। यह देखते हुए किसान इनको उगाकर खासी कमाई कर सकते हैं।

भारतीय बाजार में ही इस समय स्टीविया से निर्मित 100 से प्रोडक्ट मौजूद हैं। अमूल, मदर डेयरी, पेप्सीको, कोका कोला (फंटा) जैसी कंपनियां बड़ी मात्रा में स्टीविया की खरीदारी कर रही हैं। मलेशिया की कंपनी प्योर सर्कल स्टीविया की पर काम करती है। कंपनी ने भारत में पिछले पांच वर्षों में 1200 करोड़ का कारोबार डाबर के साथ मिलकर किया है। फ्रूटी और हल्दीराम स्टीविया बेस्ड प्रोडक्ट बाजार में उतार चुका है। स्टीविया का ग्लोबल मार्केट इस समय लगभग 5000 करोड़ रुपए का है। भारत में अन्य देशों की तुलना में स्टीविया की मांग बहुत तेजी से बढ़ रही है। बाजार में देखते हुए किसान इसकी खेती से बढ़िया मुनाफा कमा सकते हैं।

इसकी खेती में एक और फायदा ये है कि इसमे सिर्फ देसी खाद से ही काम चल जाता है। सबसे बड़ा फायदा ये है कि इसकी बुवाई सिर्फ एक बार की जाती है और सिर्फ जून और दिसंबर महीने को छोड़कर दसों महीनों में इसकी बुवाई होती है। एक बार फसल की बुवाई के बाद पांच साल तक इससे फसल हासिल कर सकते हैं। साल में हर तीन महीने पर इससे फसल प्राप्त कर सकते हैं। एक साल में कम से कम चार बार कटाई की जा सकती है।

स्टीविया का रोपन मेड़ों पर किया जाता है जिसके लिए लगभग 9 इंच ऊंचे बेड्स पर पौधे पंक्ति से पंक्ति 40 सेंटीमीटर तथा पौधों से पौधे 15 सें.मी. की दूरी पर लगाते हैं। लगाने का उपयुक्त समय फरवरी-मार्च है। स्टीविया एसोसिएशन के एमडी और सीईओ सौरभ अग्रवाल बताते हैं "कम जानकारी होने के कारण किसान अभी इसको अपना नहीं रहे हैं। जबकि इसकी खेती से लाभ ही लाभ है। इसमें नुकसान की गुंजाइश बहुत कम है। ये मुनाफ वाली फसल है, किसानों को इसे अपनाना चाहिए।