Special Story Post


झारखंड के राजेंद्र बेदिया नाम के किसान ने पीले ताइवानी तरबूज की खेती कर भारतीय कृषि में एक नया अवसर

झारखंड के राजेंद्र बेदिया नाम के किसान ने पीले ताइवानी तरबूज की खेती कर भारतीय कृषि में  एक नया अवसर पैदा  करके  एक मिसाल कायम की है ।


झारखंड के एक किसान ने पीले तरबूज की पैदावर की है. किसान का नाम राजेंद्र बेदिया है. उन्होंने इस ताइवानी तरबूज की खेती करके एक मिसाल कायम कर ली है. अब पूरे क्षेत्र में लोग उनसे इस खेती के बारे में पूछ रहे हैं. राजेंद्र ने इन तरबूजों से लागत की तीन गुनी कमाई कर ली है ।

राजेंद्र रामगढ़ के गोला प्रखंड के चोकड़बेड़ा गांव के रहने वाले हैं. उन्होंने पहली बार तरबूज की खेती का प्लान बनाया. लेकिन, उन्होंने देसी नहीं ताइवानी तरबूज को उगाने का प्लान किया. इसके लिए उन्होंने ऑनलाइन ताइवानी तरबूज के बीच मंगाए. बस फिर क्या उनकी मेहनत ने रंग दिखाना शुरू कर दिया है ।

राजेंद्र के ये तरबूज अब बड़े हो गए हैं. पीले तरबूज का रंग और आकार लाल तरबूज की तरह ही है. लेकिन, काटने पर ये पीला नजर आता है. इस तरबूज को अनमोल हाइब्रिड किस्म का तरबूज कहते हैं. इसका रंग बाहर से सामान्य हरा और अंदर से पीला होता है. यह स्वाद में ज्यादा मीठा और रसीलापन लिए रहता है ।

10 ग्राम अनमोल किस्म के ये बीच 800 रुपये के मिले. इसके बाद प्रयोग के तौर पर एक छोटे से खेत में प्लास्टिक मंचिंग और टपक सिंचाई तरीके से खेती की. अब 15 क्विंटल से अधिक पीले तरबूज की खेती हुई है. उनका अनुमान है कि उन्हें 22 हजार की आमदनी हो सकती है. यह लागत मूल्य से तीन गुना ज्यादा है ।