Farmer Success Stories


story image

રાજસ્થાનના ખેડૂતે પોતાના ગામમાં બનાવી નાખ્યું મીની ઇઝરાયલ, વર્ષની એક કરોડ રૂપિયાની આવક

ખેતી બાબતમા ઇઝરાયલ દુનિયાનો સૌથી મોટો દેશ માનવામાં આવે છે. ત્યાં રણપ્રદેશ માં ઝાકળ નાં બુંદ થી સિચાઈ થાય છે, દીવાલો ઉપર ઘઉં, ચોખા ઉગાડવામાં આવે છે, ભારતના લાખો લોકો માટે આ એક સપનું છે. ઇઝરાયલની વિચારધારા ઉપર રાજસ્થાનના એક ખેડૂતે ખેતી શરુ કરી અને તેનું વર્ષનું ટર્નઓવર સંભાળીને તમે પણ તેના વખાણ કર્યા વગર નહી રહી શકો. દિલ્હી થી લગભગ ૩૦૦ કી.મી. દુર રાજસ્થાનના જયપુર જીલ્લામાં એક ગામ છે ગુદા કુમાવતાન. તે ખેડૂત ખેમાંરાવ ચોધરી (45 વર્ષ) નું ગામ છે. ખેમારાવે ટેકનીક અને પોતાનીં બુદ્ધિનો એવો તાલમેલ કર્યો કે તે લાખો ખેડૂતો માટે નમુનારૂપ બની ગયો છે. આજનો તેનો નફો લાખો રૂપિયામાં છે. ખેમારામ ચોધરીએ ઇઝરાયલની વિચારધારા ઉપર થોડા વર્ષ પહેલા સંરક્ષિત ખેતી (પોલી હાઉસ) કરવાની શરૂઆત કરી હતી. આજે તેને જોઇને આજુ બાજુના લગભગ 200 પોલી હાઉસ બની ગયા છે, લોકો હવે આ વિસ્તારને મીની ઇઝરાયલના નામથી ઓળખે છે. ખેમારામ પોતાની ખેતીથી વર્ષના એક કરોડનું ટર્નઓવર લઈ રહ્યા છે. સરકાર તરફથી ઇઝરાયલ જવાનો લાભ મળ્યો રાજસ્થાનના જયપુર જીલ્લા મુખ્ય કચેરીથી લગભગ 35 કી.મી. દુર ગુડા કુમાવતાન ગામ છે. આ ગામના ખેડૂત ખેમારામ ચોધરી (45 વર્ષ) ને સરકાર તરફથી ઇઝરાયલ જવાનો લાભ મળ્યો હતો . ઇઝરાયલથી પાછા ફર્યા પછી તેમની પાસે કોઈ જમા મૂડી ન હતી પણ ત્યાંની ખેતીની ટેક્નીક જોઇને તેણે નક્કી કરી લીધું કે તે ટેકનીકને પોતાના ખેતરમાં પણ શરુ કરશે. સરકારની સબસીડીથી શરુ કર્યું હતું પહેલું પોલી હાઉસ ચાર હજાર ચોરસ મીટરમાં તેમણે પહેલો પોલી હાઉસ સરકારની સબસીડી દ્વારા શરુ કર્યું. ખેમારામ ચોધરી એ જણાવ્યું “એક પોલી હાઉસ શરુ કરવામાં ૩૩ લાખનો ખર્ચો થાય, જેમાંથી નવ લાખ મારે આપવા પડશે જે મેં બેન્કમાંથી લોન લીધી હતી, બાકી સબસીડી મળી ગઈ છે. પહેલી વાર કાકડી વાવીને લગભગ દોઢ લાખ રૂપિયા તેમાં ખર્ચ થયો. ચાર મહિનામાં જ 12 લાખ રૂપિયાની કાકડી વેચી, આ ખેતીને લઈને મારો પહેલો અનુભવ હતો.” તેઓ આગળ જણાવે છે કે “આટલી ઝડપથી હું બેન્કનું દેવું ચૂકવી શકીશ તેવું મેં વિચાર્યું પણ ન હતું પણ જેથી ચાર મહિનામાં જ સારો નફો મળ્યો, મેં તરત જ બેન્કનું દેવું ચૂકવી દીધું. ચાર હજાર ચોરસ ફૂટમાં પોલી હાઉસ બનાવ્યું છે.” મીની ઇઝરાયલના નામથી જાણીતો છે આ વિસ્તાર ખેમારામ ચોધરી રાજસ્થાનના પહેલા ખેડૂત છે જેમણે ઇઝરાયલના આ મોડલની શરૂઆત કરી હતી. આજે તેમની પાસે પોતાના સાત પોલી હાઉસ છે, બે તળાવ છે, ચાર હજાર ચોરસ મીટરમાં ફેન પૈડ છે, 40 કિલોવોટનું સોલર પેનલ છે. તેને જોઈને આજે આજુબાજુના પાંચ કી.મી.ના વિસ્તારમાં લગભગ 200 પોલી હાઉસ બની ગયા છે. આ જીલ્લાના ખેડૂતો સંરક્ષિત ખેતી કરીને હવે સારો નફો મેળવી રહ્યા છે. પોલી હાઉસ લગાવેલ આ આખા વિસ્તારના લોકો હવે મીની ઇઝરાયલના નામથી ઓળખાય છે. ખેમારામનું કહેવું છે, ” જો ખેડૂતોને ખેતી વિશે નવી ટેકનીકની ખબર હોય અને ખેડૂત મહેનત કરે અને સરકારે આપેલા વાયદા પ્રમાણે ૫૦% થી વધુ નફો આપે તો તેમની આવક 2019 માં બમણી નહી પણ દસ ગણી વધી જશે.” નફાનો સોદો છે ખેતી પોતાની વધતી ઉંમરનો અનુભવ રજુ કરતા જણાવે છે, “આજ થી પાચ સાત પહેલા વર્ષ પહેલા અમારી પાસે એક રૂપિયાની પણ જમામૂડી ન હતી, ખેતીથી કુટુંબનો વર્ષનો ખર્ચો કાઢવો પણ તકલીફ પડતી હતી. દરેક સમયે ખેતી નુકશાનીમાં જ ચાલતી હતી, પણ જ્યારથી ઇઝરાયલથી પાછો ફર્યો અને પોતાના ખેતરમાં નવી ટેકનીક અને રીતો અપનાવી, ત્યારથી મને લાગે છે ખેતી નફાનો ધધો છે, આજે ત્રણ હેક્ટર જમીનમાંથી જ વર્ષનો એક કરોડનું ટર્નઓવર નીકળી જાય છે.” ખેમારામે પોતાની ખેતીમાં 2006-07 થી ડ્રીપ ઈરીગેશન 18 વિધા ખેતીમાં લગાવ્યું હતું. તે પાકને જરૂર મુજબનું પાણી મળે છે અને ખર્ચો પણ ઓછો આવે છે. ડ્રીપ ઇરીગેશનથી ખેતી કરવાના કારણે જ જયપુર જીલ્લામાંથી તેમણે સરકારી ખર્ચે ઇઝરાયલ જવાનો લાભ મળ્યો હતો જ્યાંથી તે ખતી અને ટેકનીક શીખી આવ્યા છે. ઇઝરાયલ મોડલ દ્વારા જ ખેતી કરવાથી દસ ગણો નફો જયપુર જીલ્લામાં સાથી મોટી અને ગુઢા કુમાવતાન ગામમાં ખેડૂતોએ ઇઝરાયલમાં ઉપયોગમાં લેનારા પોલી હાઉસ આધારિત ખેતીને અહિયાં સાકાર કર્યું છે. નવમું ધોરણ પાસ ખેમારામની સ્થિતિ આજથી પાચ વર્ષ પહેલા બીજા સામાન્ય ખેડૂતો જેવી હતી. આજથી 15 વર્ષ પહેલા તેમના પિતા દેવામાં ડૂબેલા હતા. વધુ અભ્યાસ ન કરવાથી કુટુંબનું ભરણ પોષણ માટે ખેતી કરવી જ આવકનું મુખ્ય સાધન હતું. તે ખેતીમાં સુધારો લાવવા માંગતો હતો, શરૂઆત તેમણે ડ્રીપ ઈરીગેશન થી કરી હતી. ઇઝરાયલ ગયા પછી તે ત્યાના મોડલ અપનાવવા માંગતા હતા. કૃષિ વિભાગની મદદથી અને બેંકની લોન લીધા પછી તેમણે શરૂઆત કરી. ચાર મહિનામાં 12 લાખની કાકડી વેચી, તેનાથી તેમનો આત્મવિસ્વાસ વધ્યો. જોતજોતામાં ખેમારામે સાત પોલી હાઉસ લગાવીને વર્ષનું ટર્નઓવર એક કરોડ નું લેવા લાગ્યા છે. ખેમારામે જણાવ્યું, “મેં સાત મારા પોલી હાઉસ લગાવ્યા અને મારા ભાઈઓ એ પણ પોલી હાઉસ લગાવ્યા, પહેલા અમે સરકારની સબસીડીથી પોલી હાઉસ લગાવ્યા પણ હવે સીધા જ લગાવી લઈએ છીએ, તેટલી જ એવરેજ આવે છે, પહેલા પોલી હાઉસ લગાવવાથી ભાગતા હતા હવે બે હજાર ફાઈલો સબસીડી માટે પડી છે.” તેના ખેતરમાં રાજસ્થાનનું પહેલું ફેન પેડ ફેન પેડ (વાતાનુકુલિત) નો અર્થ આખુ વર્ષ જયારે ઈચ્છો ત્યારે તે પાક લઇ શકો છો. તેનો ખર્ચ ખુબ વધુ છે એટલે તે ઉગાડવાની એક સામાન્ય માણસની ગજા ની વાત નથી. 80 લાખનો ખર્ચમાં 10 હજાર ચોરસ મીટરમાં ફેન પેડ લગાવનાર ખેમારામે જણાવ્યું, “આખું વર્ષ તેના ઓક્સીજનમાં જેટલા તાપમાન ઉપર જે પાક લેવા માગો તે લઇ શકો છો,, હું શક્કર ટેટી અને કાકડી જ લઉં છું, તેની ઉપર ખર્ચ વધુ આવે છે પણ નફો ચાર ગણો થાય છે. દોઢ મહિના પછી આ ખેતીમાંથી કાકડી નીકળવા લાગશે, જયારે શક્કર ટેટી કોઈ જગ્યાએ નથી ઉગતી તે સમયે ફેન પેડમાં તેની સારી ઉપજ અને સારો ભાવ લઇએ છીએ.” તેઓ આગળ જણાવે છે, ” કાકડી અને શક્કર ટેટી નો ખુબ સારો નફો મળે છે, તેમાં એક બાજુ 23 પંખા લાગેલા છે બીજી તરફ ફુવારાથી પાણી ફેંકાય છે, ગરમીમાં જયારે તાપમાન વધુ રહે છે તો સોલરથી આ પંખા ચલાવીએ છીએ, પાકને જરૂર મુજબ વાતાવરણ મળે છે, જેની ઉપજ સારી થય છે.” ડ્રીપ ઈરીગેશન અને મલ્ય પદ્ધતિ છે ઉપયોગી ડ્રીપથી સિચાઈમાં ખુબ પૈસા બચી જાય છે અને મલ્ય પદ્ધતિથી પાક સીઝનનો માર, ઉપયોગથી બચી જાય છે જેથી સારી ઉપજ થાય છે. તરબૂચ, કાકડી, ટીંડોરા અને ફૂલોની ખેતીમાં સારો નફો છે. સરકાર તેમાં સારી સબસીડી આપે છે, એક વખત રોકાણ કર્યા પછી તેમાં સારી ઉપજ લઇ શકાય છે. તળાવના પાણીથી કરી શકો છો ૬ મહિનામાં સિચાઈ ખેમારામે પોતાની અડધા હેકટર જમીનમાં બે તળાવ બનાવ્યા છે, જેમાં વરસાદનું પાણી જમા થઇ જાય છે. તે પાણી થી છ મહિના સુધી સિચાઈ કરી શકાય છે. ડ્રીપ ઈરીગેશન અને તળાવના પાણીથી જ આખી સિંચાઈ થઇ જાય છે. ફક્ત ખેમારામની નહિ પણ અહિયાંના મોટાભાગના ખેડૂતો પાણી આવી રીતે જ સંગ્રહ કરે છે, પોલી હાઉસની છત ઉપર લાગેલા નાના સ્પીંકલર અંદર તાપમાન ઓછું રાખે છે. દસ ફૂટ ઉપર લાગેલા ફુવારા પાકમાં નમી જાળવી રાખે છે. સોર્ય શક્તિથી વીજળીનો કાપ ને આપી રહ્યા છે હાર દરેક સમયે વીજળી રહેતી નથી, માટે ખેતારામે પોતાના ખેતરમાં સરકારી સબસીડીની મદદથી 1`5 વોટનું સોલર પેનલ લગાવ્યું અને પોતે 25 વોટનું લગાવ્યું. તેની પાસે 40 વોટનું સોલર પેનલ લાગેલ છે. તે પોતાનો અનુભવ જણાવે છે, “જો એક ખેડૂતે પોતાની આવક વધારવી છે તો થોડું જાગૃત થવું પડશે ખેતી સાથે જોડાયેલી સરકારી યોજનાઓની જાણકારી રાખવી પડશે, થોડું જોખમ લેવું પડશે, ત્યારે ખેડૂત પોતાની ઘણી બધી આવક વધારી શકે છે,” તે લોકો જણાવે છે, “સોલર પેનલ લગાવવાથી પાકને સમયસર પાણી મળી શકે છે, ફેન પેડ પણ તેની મદદથી ચાલે છે, તેના લગાવવાથી પૈસા તો એક વખત ખર્ચ થયો જ છે પણ ઉપજ પણ ઘણી બધી વધી છે જેનાથી સારો નફો પણ મળી રહે છે, સોલર પેનલથી આપણે વીજળી કાપથી બચી શકીએ છીએ.” રોજ આ મીની ઇજરાયલને જોવા આવે છે ખેડૂતો રાજસ્થાન સાથે અન્ય પ્રદેશો પણ ઘણા ભાગમાંથી આવે છે લોકો ખેતીના આ ઉત્તમ મોડલને જોવા ખેડૂતો રોજ આવતા રહે છે. ખેતારામે જણાવ્યું, ” આજ એ વાતથી મને ખુબ આનંદ છે કે અમારી દેખાદેખી જ ખરી રીતે ખેડૂતોની ખેતીની રીતમાં ફેરફાર લાવવાનું શરુ કર્યું છે. ઇજરાયલ મોડલની શરૂઆત રાજસ્થાનમાં અમે કરી હતી આજે તે સંખ્યા સેકડોમાં પહોચી ગઈ છે, ખેડૂતો સતત તે રીતે ખેતી કરવાનો પ્રયત્નમાં લાગી ગયા છે.” ભારત નાં ખેડૂતો આ બધી ટેકનીક થી સારી ટેકનીક બનાવી શકે એમ છે બસ એક ભાવ મળવા ની ટેકનીક મળી જાય જ્યારથી ભાવ મળતા થશે તો એવી ખેતી ની ટેકનીક બનાવશે કે ઈઝરાઈલ વાળા ભારત નાં ખેડૂતો પાસે શીખી ને એમના દેશ માં મીની ભારત બનાવી ખેતી કરશે

story image

किसान श्री मुथू की सफल खेती की कहानी

एक छोटा किसान श्री मुथू अपने 50 सेंट भूमि में चमेली और साइट्रस उगाता है और वार्षिक आय के रूप में 4 लाख रुपये से अधिक कमा सकता है।बकरी खाद, फार्मयार्ड खाद, मूंगफली और नीम केक का उपयोग करके सभी फसलें उगाई जा रही हैं। पांच बकरियों और पांच बैल के साथ किसानों को इनपुट सोर्सिंग में कोई कठिनाई नहीं है। गर्मी के दौरान 25 साइट्रस पेड़ काटा जाता है और फल की बाजार में अच्छी मांग होती है।किसान कहते हैं "मांग का कारण यह है कि फल गोल, रसदार, बड़े, धब्बे, निशान और चमकदार से मुक्त होते हैं। मैं एक वर्ष में प्रत्येक पेड़ से लगभग 5,000 फल फसल करने में सक्षम हूं। प्रत्येक फल स्थानीय बाजार में 1.50 रुपये से 2 रुपये के लिए बेचा जाता है और मुझे नियमित रूप से 1,500 रुपये से नियमित आय मिलती है। प्रति दिन 2,000, "। मौसम के दौरान चमेली के फूलों की दर भी एक चोटी पर पहुंच गई और श्री मुथू 300 रूपये प्रति किलो फूलों तक पहुंचने में सक्षम हुए। सभी फसलों को व्यवस्थित रूप से उगाया जाता है। फसल पर मछली हार्मोन नियमित रूप से छिड़काया जाता है। 10 लीटर खट्टी छाश में लगभग 10 किलोग्राम मछली अपशिष्ट मिलाया जाता है और प्लास्टिक की बैरल में 10 से 15 दिनों तक किण्वन की अनुमति दी जाती है और समय-समय पर उत्तेजित होती है। फिर इसे फ़िल्टर किया जाता है और स्प्रेयर के माध्यम से छिंड़काव किया जाता है। नीम, पोंगाम, नोची और यूरेका पत्तियों को इकट्ठा किया जाता है, कुचल दिया जाता है और 10 लीटर गाय के मूत्र और खट्टी छाश के साथ मिश्रित किया जाता है और 10-20 दिनों तक किण्वन करने की अनुमति दी जाती है और फिर फसलों पर बायो कीटनाशक के रूप में छिंड़काव किया जाता है। किसान कहता है कि उसके मोसंबी पर चमकदार उपस्थिति इस हार्मोन के कारण है, जो कीट के हमलों के खिलाफ पेड़ों को काफी मजबूत बनाती है। • व्यक्तिगत भागीदारी सफलता के लिए जरूरी है किसान कहते हैं " साइट्रस के लिए मेरे 25 सेंट से मुझे मासिक आय लगभग रु। 50,000। और मेरे फूलों से मुझे अतिरिक्त आय मिलती है हालांकि यह केवल फूल के मौसम के दौरान होती है। एक साल में मैं 5 से 6 लाख रुपये कुछ भी कमाता हूं यह केवल इसलिए संभव है क्योंकि मैं व्यक्तिगत रूप से भूमि का ख्याल रखता हूं। मैं श्रमिकों पर निर्भर नहीं हूं। रिमोट कंट्रोल कृषि में काम नहीं करता है। कुछ स्थानों पर मालिक सभी काम करने के लिए अपने खेत के हाथों पर निर्भर है। यदि आप कृषि में पैसा कमाने की इच्छा रखते हैं तो भौतिक उपस्थिति जरूरी है ।" इसी प्रकार अपने साइट्रस बगीचे में इंटरक्रॉप के रूप में ऑफ-सीजन मूंगफली बढ़ाया जिसकी जनवरी के दौरान कटाई की गई । कार्बनिक रूप से उगाए गए तीन-बीज वाले नट आकार में बड़े होते हैं और अच्छी तरह से स्वाद लेते हैं। किसान 3,000 रुपये प्रति बैग खरीदने के लिए उसके खेत में आते हैं। उन्हें 25 सेंट जमीन से मूंगफली के 10 बैग मिलते हैं। इस साल उन्होंने शुद्ध लाभ के रूप में 27,000 रुपये कमाए जिसके लिए उन्होंने केवल 3,000 रुपये खर्च किए। किसान ने वर्तमान में अपने गांव के पास जमीन के टुकड़े को बड़े पैमाने पर साइट्रस की खेती करने के लिए खरीदा है। • सफलता के कारण अपने छोटे क्षेत्र से श्री मुथू की वित्तीय सफलता के कारण हैं: वह अपनी फसलों के लिए बाहरी इनपुट पर निर्भर नहीं हैं। सब कुछ अपने स्थान से ही सोर्स किया जाता है। दूसरा वह खुद साइट्रस और फूलों का विपणन करता है और उसका पूरा परिवार काम में शामिल है इसलिए उसे मजदूरों पर अतिरिक्त खर्च करने की आवश्यकता नहीं है। अधिक जानकारी और निजी यात्रा के इच्छुक किसान संपर्क कर सकते हैं : श्री एनकेपी मुथू, नागथसंपट्टी गांव, पेनग्रामम तालुक, धर्मपुरी जिला, तमिलनाडु, मोबाइल: 09344469645 और श्री मधु बालन- 09751506521 , ईमेल: balmadhu@gmail.com #digitalagriculture #RevolutionofAgriculture #ekrishikendra #kheti #agriculture #krushi #farming #indiaagriculture #eagriculture #eagrotrading #eagritraining

story image

सहजन आपको लखपति बना सकता है: किसानों के लाभ के लिए आकर्षण

सहजन भारत में प्रसिद्ध सब्जी फसल में से एक है। यह एकमात्र सब्जी है जिसमें पत्तियों, फली और फूल भी मानव और जानवर दोनों के लिए पोषक तत्वों से पैक होते हैं। पौधे के लगभग हर हिस्से खाद्य मूल्य का है। पत्ते को हरी सलाद के रूप में खाया जाता है और सब्जी करी में उपयोग किया जाता है। बीज 38-40 प्रतिशत गैर-सुखाने वाले तेल को बेन तेल के रूप में जाना जाता है, जो चिकनाई घड़ियों के लिए उपयोग किया जाता है। तेल स्पष्ट, मीठा और गंध रहित है, कभी भी बासी नहीं होता है और इसलिए इत्र के निर्माण में उपयोग किया जाता है।यह एकमात्र फसल है जो मानव, जानवरों और मशीनों के लिए उपयोगी है और इत्र के लिए भी प्रयोग की जाती है।सहजन दुर्लभ बागवानी फसल में से एक है जो रोपण के छह महीने के भीतर फलने लगती है, और आठ से नौ साल की अवधि तक रहती है। किसान अप्पा कर्मकर की सहजन उगाने की सफलता की कहानी है। अंगार गांव में, एक दुर्लभ वनस्पति परिदृश्य के साथ, सूर्य 40 डिग्री सेल्सियस और स्क्वाट घरों को व्यापक रूप से वितरित कर रहा है, गुजरात, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश के शुष्क क्षेत्र के किसानों के लिए एक गंतव्य बन गया है। सोलापुर शहर से 47 किमी की दूरी पर, यह 545-घर का गांव जो अपने तीन एकड़ के खेत की मेजबानी करता है, शुष्क भूमि खेती का एक चमकदार उदाहरण बन गया है। सहजन के शुरुआती उपायोजक में से, इस स्नातकोत्तर ने 2012 में बारहमासी फलने वाले पौधे की शुरुआत की, और इसे मिर्च, पपीता, अनार और अमरूद साथ उगाया, और गेंदा भी साथ में उगाया जिसे परंपरागत रूप से कीटों को नियंत्रित करने के लिए उपयोग किया जाता है। खेत हर साल 50 टन सहजन पैदा करता है, जो थोक बाजार में 30 रुपये से 80 रुपये प्रति किलोग्राम बेचता है, जो सालाना लगभग 6 लाख रुपये कमाता है। उनके रिटर्न प्राप्त करने वाले न्यूनतम इनपुट के साथ उनके जलवायु-स्मार्ट बागवानी सुधार, किसानों, पत्रकारों, कृषि स्नातकों और विशेषज्ञों को अपने खेत में आकर्षित करते हैं। महीनों में 7 लाख रुपये कमाए हैं, और सालाना 15 लाख रुपये कमाते हैं।

story image

भारत में मशरूम खेती

भारत में मशरूम उत्पादकों के दो मुख्य रूप हैं, मौसमी किसान और वाणिज्यिक मशरूम किसान जो पूरे वर्ष उत्पादन जारी रखते हैं। ज्यादातर घरेलू बाजार और निर्यात में सफेद बटन मशरूम विकसित करते हैं। मौसमी बटन मशरूम उत्पादक हिमाचल प्रदेश, जम्मू और कश्मीर, उत्तर प्रदेश के पहाड़ी इलाकों, तमिलनाडु के पहाड़ी इलाकों और उत्तर पूर्वी क्षेत्रों जैसे समशीतोष्ण क्षेत्रों तक सीमित हैं जहां किसान एक वर्ष में बटन मशरूम के 2-3 पौधे लेते हैं। वाणिज्यिक मशरूम खेती के लिए, भवन निर्माण बुनियादी ढांचे, मशीनरी और उपकरण की खरीद, कच्चे माल, श्रम और ऊर्जा पर भारी खर्च की आवश्यकता है। एक मशरूम उत्पादक के लिए व्यावहारिक उन्मुख प्रशिक्षण लेना बहुत महत्वपूर्ण है। भारत में विभिन्न सरकारी और गैर सरकारी संगठन मशरूम खेती प्रशिक्षण प्रदान करते हैं। हालांकि, एनआरसीएम अग्रणी संस्थान प्रशिक्षण प्रदान करता है। इसके अलावा, हमारी भारतीय सरकार मशरूम की खेती को बढ़ावा देती है इसलिए वे राष्ट्रीय बागवानी बोर्ड, खाद्य प्रसंस्करण मंत्रालय, एपीईडीए जैसी विभिन्न योजनाओं के तहत सब्सिडी देते हैं। मशरूम खेती शुरू करने से पहले व्यावसायिक मशरूम उत्पादन व्यवसाय में सफल होने के लिए माना जाना चाहिए: • सफल भागीदारी और निगरानी उद्देश्य के लिए मशरूम फार्म किसान के घर के करीब होना चाहिए • खेत में बहुत सारे पानी की उपलब्धता • क्षेत्र में प्रतिस्पर्धी कीमतों पर कच्चे माल की आसान पहुंच • अधिक सस्ती कीमतों पर श्रम के लिए आसान पहुंच। • प्रतिस्पर्धी कीमतों पर बिजली की उपलब्धता, क्योंकि बिजली मशरूम की खेती में एक महत्वपूर्ण इनपुट है • खेत औद्योगिक प्रदूषक जैसे रासायनिक धुएं से होना चाहिए, • सीवेज निपटान के लिए प्रावधान होना चाहिए • खेत में भविष्य के विकास के लिए प्रावधान होना चाहिए। भारत में ज्यादातर चार प्रकार के मशरूम खेती की जाती है। 1. सफेद बटन मशरूम 2. खाने लायक खुम्बी 3. धुंगरी (ऑयस्टर) मशरूम 4. धान स्ट्रॉ मशरूम सफेद बटन मशरूम के ऊपर सभी में सबसे लोकप्रिय मांग है इसलिए अधिकांश किसान व्यावसायिक रूप से मशरूम खेती के लिए इस किस्म का चयन करते हैं। सफेद बटन मशरूम के लिए औसत मूल्य प्रति किलो 50-100 रस. के बीच है, यह बाजार की मांग पर निर्भर करता है। व्हाइट बटन मशरूम ज्यादातर होटल और मेट्रो शहरों का उपभोग होता है। बटन मशरूम खेती की प्रक्रिया भारत मे मशरूम की खेती के लिए अनुकूल मौसम अक्टूबर से मार्च है। खेती की प्रक्रिया में पांच मुख्य चरण हैं 1. मशरूम स्पॉन 2. खाद की तैयारी 3. स्पोन मल्च 4. आवरण 5. फसल और फसल प्रशासन मशरूम स्पॉन: स्पॉन मशरूम की खेती के लिए एक बीज है। मशरूम स्पॉन की तैयारी के लिए अधिक तकनीकी कौशल और निवेश की आवश्यकता होती है, ज्यादातर मशरूम स्पॉन बड़े संस्थान उत्पादन करते हैं। खाद की तैयारी खाद एक कृत्रिम रूप से तैयार विकास माध्यम है जिससे मशरूम विकास के लिए आवश्यक पोषक तत्व प्राप्त कर सकता है। कंपोस्ट तैयारी के लिए दो प्राथमिक तरीके हैं: 1. लंबी विधि 2. लघु विधि लघु विधि से कंपोस्ट तैयार करने में कम समय लगता है लेकिन अधिक पूंजी और संसाधनों की आवश्यकता होती है। लघु विधि द्वारा बनाई गई खाद उच्च उपज वाले मशरूम उत्पादन के लिए उपयुक्त है। 1. लंबी विधि लम्बी विधि एक बाहरी प्रक्रिया है और कुल सात मोड़ों के साथ अपने निष्कर्ष में लगभग 28 दिन लगते हैं। इस प्रकार लंबी विधि के लिए सामग्री की आवश्यकता है। गेहूं के भूसे 300 किलो गेहूं की चोटी 15 किलो कैल्शियम अमोनियम नाइट्रेट 9 किलो यूरिया 4 किलो पोटेश के मुरिएट 3 किलो सुपरफॉस्फेट 3 किलो जिप्सम 20 किलो खाद बनाने से पहले, गेहूं के भूसे का मिश्रण फ्लोर पर 1-2 दिनों (24-48 घंटे) के लिए रखा जाता है और एक निश्चित समय अंतराल के साथ दिन में कई बार स्प्रे पानी लगाया जाता है। दिन 0: इस चरण में, जिप्सम को छोड़कर उपरोक्त संघटक अच्छी तरह मिलाया जाता है और 5 फीट चौड़ा, 5-फुट-ऊंचा ढेर बनाता है। लकड़ी के बक्से की सहायता या किसी अन्य उपकरण के साथ। ढेर की लंबाई सामग्री की मात्रा पर निर्भर करती है, लेकिन ऊंचाई और चौड़ाई ऊपर लिखे गए माप से अधिक या कम नहीं होनी चाहिए और यह पांच दिनों तक चलती है। बाहरी परतों में कम नमी की आवश्यकता के अनुसार पानी स्प्रे होता है। लगभग दो से तीन दिनों में इस ढेर का तापमान 65-70 डिग्री सेल्सियस के आसपास आता है, जो एक अच्छा संकेत है। पहला बदलाव (6 वां दिन) छठे दिन, पहला बदलाव शुरू करें। ध्यान रखें कि मोड़ के दौरान, ढेर के प्रत्येक हिस्से को पूरी तरह मिश्रित किया जाना चाहिए, और पर्याप्त हवा फैलती है ताकि आर्द्रता प्रत्येक कंपोस्ट के टुकड़े से छुटकारा पा सके। यदि खाद में नमी की मात्रा कम हो जाती है, तो आवश्यकता के अनुसार पानी को छिड़क दिया जाता है। नए ढेर का आकार पहले के समान है। दूसरा बदलाव (10 वां दिन) दूसरा टर्नअराउंड पहले बदलाव के समान है। तीसरा बदलाव (13 वां दिन): तीसरे बदलाव में जिप्सम एक ही प्रक्रिया का पालन करें क्योंकि पहली बार टर्नअराउंड करें और पूरी तरह मिलाएं। चौथा बदलाव (16 वां दिन) पहली बार बदलाव के समान प्रक्रिया। पांचवां बदलाव (1 9 वां दिन) पहली बार बदलाव के समान प्रक्रिया। 6 वां टर्नअराउंड (22 वां दिन) सातवां बदलाव (25 वां दिन) नूवान या मैलाथियन (0.1%) छिड़के। आठवां बदलाव (28 वां दिन) बीस दिन खाद में अमोनिया और नमी की जांच करें। नमी के स्तर को जानने के लिए, हथेली में खाद दबाएं और नमी के स्तर की जांच करें; अगर अंगुलियों को प्रेस पर गीला हो जाता है, लेकिन खाद के साथ पानी निचोड़ नहीं होता है, इस स्थिति में, खाद का स्तर खाद में उपयुक्त है इस स्थिति में खाद में 68-70 प्रतिशत नमी मौजूद है जो बीज उत्पादन के लिए उपयुक्त है। खाद में अमोनिया की जांच करने के लिए, खाद जलाया जाता है, अगर अमोनिया की गंध है, तो 3 दिनों का अंतर एक या दो फ्लिप-आउट प्रदान करना चाहिए। जब अमोनिया की गंध अंततः खत्म हो जाती है, और मीठी सुगंध खाद से आती है, तो खाद फर्श पर फैला दीजिये और इसे 25 डिग्री सेल्सियस तापमान तक ठंडा कर दे। स्पॉनिंग बीज को 0.5 से 0.75 प्रतिशत खाध के मिश्रण में डाले, यानी 500-750 ग्राम बीज100 किलो तैयार खाद के लिए पर्याप्त हैं। मिट्टी का आवरण मिट्टी के आवरण का महत्व नमी की मात्रा और प्रदूषकों के आदान-प्रदान को कंपोस्ट की शीर्ष परत के अंदर रखना होगा जो मायसीलियम के सही विकास में सहायता करता है। इस मिट्टी का आवरण पीएच 7.5-7.8 होना चाहिए और किसी भी बीमारी से मुक्त होना चाहिए। मिट्टी के आवरण को सीमेंट वाले जमीन पर रखा जाता है और इसकी ट्रीटमेंट 4% फॉर्मलिन सोल्यूशन के साथ कि जाती है। के घूर्णन के माध्यम से मिट्टी को तैयार किया जाता है है और यह पॉलीथीन शीट के साथ 3-4 दिनों के लिए कवर किया जाता है। 6-8 घंटे के लिए 65 डिग्री सेल्सियस पर खोल मिट्टी का पाश्चराइजेशन बहुत अधिक सफल साबित होता है। एक बार तल को इस कवक के सफेद मायसीलियम के साथ लेपित किया जाने के बाद मिट्टी के आवरण को 3-4 सेमी कोटिंग खाद पर फैलाया जाता है। फॉर्मलिन सोल्यूशन (0.5 प्रतिशत) बाद में स्प्रे किया जाता है। उचित वेंटिलेशन को एक साथ संगठित किया जाना चाहिए जिसमें पानी हर दिन दो बार छिड़काया जाना चाहिए। फसल की कटाई मशरूम पिनहेड की शुरुआत 10-12 दिनों के बाद शुरू होती है और 50-60 दिनों में मशरूम की फसल काटा जाता है। मशरूम को आवरण मिट्टी को नुकसान किए बिना काटे और जब कटाई खत्म हो जाती है तो बेड के अवकाश को स्टेरिलाइज़ आवरण सामग्री से भरे और पानी छिड़के। मशरूम उत्पादकता आम तौर पर लंबी विधि से 1000 किलो कंपोस्ट से 14-18 किलोग्राम मशरूम उत्पादित होता है। फसल कटाई प्रबंधन कटा हुआ मशरूम धीरे-धीरे 10 लीटर पानी में 5g KMS डालके इस सॉल्यूशन में धो ले । धोने के बाद अतिरिक्त पानी निकालें और पॉलीथीन बैग में इन मशरूम को पैक करें। पेकिंग बाजार और ग्राहक की मांग पर निर्भर करते हैं।

story image

इस किसान की सब्जियां जाती हैं विदेश, सैकड़ों महिलाओं को दे रखा है रोजगार

खेती जिसमें एक किसान और उसके उपभोक्ता बीच अगर हजारों किलोमीटर का लंबा फासला हो, तो ज़ाहिर है इस फासले को पाटने का जज्बा हर किसी के बूते की बात नहीं होगी। यह तो 64 साल के करण वीर सिंह सिद्धू की हिम्मत, संकल्प और उनके पिता के सच्चे किसान का डीएनए ही था जिसकी वजह से वो इस जोखिम भरे माहौल यानी खेती के धंधे में कूद गए।

story image

भारत में अगली कृषि क्रांति की प्रवेश

आधुनिक युग में कई तकनीकें और औजार हमारे जीवन का एक अभिन्न अंग बन रहे हैं। ऊर्ध्वाधर खेती, हाइड्रोपोनिक्स, ग्रीनहाउस और एयरोपोनिक्स और बेहतर हाइब्रिड फसल किस्मों उसका परिणाम है । भारतीय कृषि वैज्ञानिक रूप से खेती, बागवानी, छंटनी और बाद में कटाई के क्षेत्र में नए क्षितिज - मूल्यवर्धन, विपणन प्रबंधन, कृषि सूचना प्रौद्योगिकी, किसान चर्चा, अनुबंध खेती और डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म के माध्यम से विकसित हो रही है। भारतीय कृषि का यह नया युग डिजिटल क्रांति के साथ उभर रहा है। डिजिटल क्रांति के साथ, भारतीय कृषि को अपनी असली जगह पर लाने का एक बड़ा अवसर है। डिजिटल कृषि लेनदेन, खरीद और बिक्री में पारदर्शिता, कृषि वस्तुओं के बाजार पर किसानों का नियंत्रण, उन्नत सेंसर और डिजिटल इमेजिंग क्षमताओं का उपयोग, बड़ी मात्रा में डेटा संचय और विश्लेषण इत्यादि डिजिटल क्रांति की शुरुआत है। किसानों ने हमेशा परिवर्तन स्वीकार कर लिया है और आज वे अधिक उन्नत तकनीक का उपयोग कर रहे हैं। आधुनिक कृषि मशीनरी पर बढ़ती निर्भरता, जीपीएस उपग्रहों का आगमन, और उपग्रह आधारित सेंसर द्वारा मार्गदर्शन उनकी फसलों को विकसित करने में निश्चित रूप से सहायक होते हैं। यह डिजिटल क्रांति तीसरी हरी क्रांति हो सकती है जो भारतीय पारंपरिक कृषि के पुनरुत्थान में महत्वपूर्ण योगदान देगी।